National Institute of Plant Genome Research
Digital India     
 
डिस्क @ एन आई पी जी आर
एन आई पी जी आर में वितरित सूचना उप केन्द्र (डिस्क) जैव प्रौद्योगिकी सूचना प्रणाली नेटवर्क (बी टी आई एस नेट) कार्यक्रम के तहत जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा लगाया गया है। बी टी आई एस नेट देश भर में फैला वितरित जैव सूचना विज्ञान का एक प्रमुख नेटवर्क है। नेटवर्क को जैव सूचना विज्ञान के गहन अनुप्रयोग के साथ जैव प्रौद्योगिकी के अग्रणी क्षेत्रों में उन्नत अनुसंधान आरंभ करने के लिए तैयार किया गया है। नेटवर्क का उद्देश्य जैव सूचना विज्ञान में मानव संसाधन का विकास करना, और प्रभावी शिक्षा-उद्योग का अंतरफलक स्थापित करना है ताकि विश्व-स्तरीय प्रौद्योगिकी विकास, स्थानांतरण और व्यावसायीकरण के लिए आधार बना सके।

एन आई पी जी आर में डिस्क 2007 के शुरू में स्थापित किया गया था और इसका उद्देश्य संस्थान में सूचना प्रौद्योगिकी से संबंधित सभी मुद्दों के लिए सहायता संरचना प्रदान करना था इसके अलावा संस्थान की विभिन्न प्रयोगशालाओं में जैव सूचना विज्ञान संबंधित शोधकर्ताओं के लिए, प्लांट जीव विज्ञान शरीर विज्ञान, और कृषि के क्षेत्र में वैज्ञानिकों की जरूरतों को पूरा करने तथा अभिकलनात्मक सुविधाएं प्रदान करने के लिए किया गया था।

केंद्र ने जैव सूचना विज्ञान में कर्मचारियों को विकसित करने के लिए स्नातकोत्तर छात्रों के लिए वार्षिक प्रशिक्षण की व्यवस्था की पहल भी शुरू की है। वर्तमान में ट्रेनीशिप / स्टूडेंटशिप मे छह महीने की अवधि के लिए 2 पद है, जो कि डीबीटी, भारत सरकार द्वारा प्रायोजित है।

जानकारी यहां पायी जा सकती है|
डिस्क द्वारा प्रदान सेवाएँ  और मुख्य  गतिविधियाँ  

एन आई पी जी आर डिस्क सुविधा में सभी प्रयोगात्मक समूहों और संस्थान के अन्य विभागों के लाभ के लिए निम्नलिखित सेवाएँ प्रदान की जाती हैं :
  • लैन से जुड़े सभी कंप्यूटर के लिए निरंतर सुरक्षा संबंधित रखरखाव और सहयोग प्रदान करना।
  • लीज्ड लाइन का प्रबंधन, और सभी उपयोगकर्ताओं के लिए लगातार नेटवर्क और इंटरनेट से संबंधित सहयोग करना।
  • संस्थान के वेब सर्वर और ईमेल सर्वर के लिए रखरखाव, बैकअप लेना और नियमित रूप से नवीनीकरण करना।
  • ईमेल या वेबसर्वर के माध्यम से भारी डेटा अपलोड / डाउनलोड के लिए सहायता प्रदान करना।
  • जैव सूचना विज्ञान संबंधित सहायता और डेटा का विश्लेषण करना।
  • वैज्ञानिक सॉफ्टवेयर पैकेजों का प्रतिष्ठापन (इंस्टालेशन) करना।
  • संस्थान में चल रहे टमाटर जीनोम अनुक्रमण के प्रयासो में सहायता प्रदान करना।
  • संस्थान में कई विविध गतिविधियों के लिए सहायता प्रदान करना।
  • जैव सूचना विज्ञान में जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यशालाओं का आयोजन करना।